गोंडा । जिले की तहसील कर्नलगंज इस समय रिश्वतखोरी को लेकर काफी चर्चा में है जहां तहसील कार्यालय में कार्यरत कर्मियों के अलावा लेखपाल, कानूनगो द्वारा आम जनता से विभिन्न शासकीय व अन्य आवश्यक कार्यों के बदले खुलेआम रिश्वतखोरी कर अवैध वसूली करने का सिलसिला लगातार जारी है।जिससे स्थानीय अधिकारियों की निरंकुश कार्यप्रणाली सामने आ रही है जो सवालिया घेरे में है। मामला तहसील कर्नलगंज का है, जहां आए दिन बेखौफ सरकारी कर्मचारियों द्वारा रिश्वत लेने का कारनामा सामने आ रहा है जिसका वीडियो वायरल हो रहा है जो योगी सरकार के भ्रष्टाचार मुक्त शासन व्यवस्था की पोल खोलने के लिए काफी है। बताते चलें कि अभी विगत दिनों पिपरी के लेखपाल का वीडियो वायरल होने पर मुकदमा तक पंजीकृत हुआ और उसके पश्चात कटरा बाजार का मामला सामने आया जो कि अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि तीसरा वीडियो फिर वायरल हुआ है जो गोगिया के लेखपाल शिवशरण श्रीवास्तव का है जिनके द्वारा खसरा बनाने के नाम पर पीड़ित से ही पैसा ले लिया गया जिसका किसी ने वीडियो बना लिया और उसे वायरल कर दिया जो काफी चर्चा का विषय बना है। वहीं जनपद के तेज तर्रार कहे जाने वाले जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही की कार्रवाई का भी लेखपाल और तहसील कर्मियों को कोई खौफ नहीं है। जबकि यह वीडियो तहसील कार्यालय की बतायी जाती है जहां पर उप जिलाधिकारी व तहसीलदार मौजूद रहते हैं वहां की वीडियो वायरल हो रही है जो जिम्मेदार अधिकारियों की कार्यप्रणाली को सवालिया घेरे में खड़ी कर रही है। ऐसे में अब गंभीर प्रश्न यह उठता है कि जब तहसील कार्यालय में जहां जिम्मेदार अधिकारी मौजूद रहते हैं और उप जिलाधिकारी, तहसीलदार के नाक के तले सरकारी परिसर में यह हाल है तो लेखपाल,कानूनगो और अन्य सरकारी कर्मचारी क्षेत्र में आम जनता के साथ कैसा सलूक करते होंगे इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है। वहीं आम जनता से विभिन्न शासकीय व अन्य आवश्यक कार्यों के बदले खुलेआम रिश्वतखोरी कर अवैध वसूली करने का सिलसिला लगातार जारी है। जो शासन प्रशासन के निरंकुश कार्यप्रणाली को उजागर कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.